Search
Saturday 23 March 2019
  • :
  • :

आम बजट : ख़ास बजट

raतमाम अनुमानों को दरकिनार करते हुए वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया. हालांकि पांच लाख रुपये तक की सालाना आय वालों को दो हजार रुपये की टैक्स छूट दी गयी है. अमीरों पर सुपररिच टैक्स लगाने का ऐलान किया गया है. सालाना एक करोड़ रुपये से ज्यादा कमाई करने वालों पर 10% का सरचार्ज लगेगा. इसके अलावा ऐसी कंपनियां जिनकी सालाना आमदनी 10 करोड़ रुपये से अधिक है उन पर भी 10% का सरचार्ज लगाया गया है. वहीं, एजुकेशन पर 3% सेस जारी रखा गया है.

 

टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं

वित्त मंत्री ने कहा कि मौजूदा टैक्स स्लैब पिछली बार ही बदला गया है, लिहाजा इसमें कोई बदलाव नहीं होगा. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पांच लाख तक की आय वालों को दो हजार रुपये का टैक्स क्रेडिट मिलेगा, यानी दो लाख से पांच लाख तक की आय वालों को चुकाए जाने वाले कर पर दो हजार की राहत मिलेगी. चिदंबरम ने टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया है लेकिन इस नए प्रावधान के साथ अब 2 लाख 20 हजार रुपये की अर्निंग करने वालों को कोई कर नहीं देना होगा.

तो मिल्र्गी दो हजार की राहत

चिदंबरम ने सालाना एक करोड़ रुपये से अधिक की टैक्सेबल इनकम पर 10% सरचार्ज लगाने का प्रस्ताव रखा. उन्होंने कहा कि यह सरचार्ज व्यक्तिगत टैक्सपेयर्स, हिंदू अविभाजित परिवारों और समान स्थिति वाली फर्मों व संगठनों पर लागू होगा. वित्तमंत्री ने बताया कि देश में सिर्फ 42,800 व्यक्ति ऐसे हैं जिन्होंने स्वीकार किया है कि उनकी सालाना कर योग्य आमदनी एक करोड़ रुपये से अधिक है. उन्होंने स्पष्ट किया कि अतिरिक्त सरचार्ज केवल एक साल यानी वित्त वर्ष 2013-14 के लिए होंगे.

होम लोन पर छूट

चिदंबरम ने सालाना 10 करोड़ रुपये से अधिक टैक्सेबल इनकम वाली घरेलू कंपनियों पर सरचार्ज को पांच से बढ़ाकर 10 % करने का प्रस्ताव किया है. उन्होंने कहा कि कॉरपोरेट टैक्स की उच्चतर दर अदा करने वाली विदेशी विदेशी कंपनियों की स्थिति में यह सरचार्ज दो से बढ़ाकर पांच प्रतिशत करने का प्रस्ताव है. 50 लाख रुपये से अधिक की अचल संपत्तियों की खरीद-बिक्री पर मूल्य के एक प्रतिशत की दर से स्रोत पर टीडीएस का प्रस्ताव किया है. हालांकि खेती की जमीन की खरीद बिक्री पर यह नहीं लागू होगा. होम लोन मामले में उन्होंने कंजूसी के साथ राहत दी है. केवल ऐसे लोगों को ईएमआई पर एक लाख रुपये का अतिरिक्त टैक्स डिडेक्शन देने का प्रस्ताव रखा है, जो 25 लाख रुपये तक के होम लोन से पहली बार घर खरीदेंगे. पहले लिए गए होम लोन पर यह लागू नहीं होगा. जो लोन फाइनैंशल ईयर 2013-14 में लिए जाएंगे, उन्हीं पर यह सुविधा मिलेगी.
कौन – क्या कहा

बजट में हर मंत्रालय का रखा गया है ध्यान – प्रधान मंत्री

किसान और गरीब विरोधी है यह बजट – मुलायम सिंह यादव

टैक्स रेट को स्थिर रख वित्त मंत्री ने अच्छा काम किया है – कपिल सिब्बल

इस बजट से देश आगे नहीं बढ सकता है – शरद यादव

बजट में सबके लिए कुछ न कुछ – किरण बेदी

यह बाजीगिरी का बजट है- यशवंत सिन्हा

यह वित्त मंत्री नहीं, अकाउन्टेंट का बजट है – मुरली मनोहर जोशी

 




AD