Search
Saturday 23 February 2019
  • :
  • :

नरेंद्र मोदी से नीतीश तक पर बरसे तेजस्वी

बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव सड़क से लेकर सोशल मीडिया तक पर खूब बरस रहे हैं। वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को अपना निशाना बना रहे हैं। बेरोजगारी हटाओ आरक्षण बढ़ाओ यात्रा पर निकले तेजस्वी ने दरभंगा में कहा कि देश में बीजेपी नागपुरिया संविधान लागू करना चाहती है। वहीं बिहार में बढ़ते अपराध पर उन्होंने ट्वीट कर कहा कि चाचा मुंह तो खोलिए।

दरभंगा के लोआम खेल मैदान में आयोजित सभा को संबोधित करते हुए तेजस्वी ने कहा कि बीजेपी देश में संविधान को खत्म करने की साजिश रच रही है। वह नागपुरिया कानून लागू करना चाह रही है। उन्होंने कहा कि लोहिया के पद चिह्नों पर चलने वाले आज मोदी के लोग बन गए हैं।
नेता प्रतिपक्ष ने अपने पिता की प्रशंसा करते हुए कहा कि लालू यादव ने अंतिम पायदान में बैठे लोगों को सीने से लगाया। उन्हेंं अपने दिल में जगह दी। वे गरीब गुरबों के लिए लड़ते रहे। यही कारण है कि आज लालू यादव बीजेपी की आंखों में खटक रहे हैं। उन्हें फंसा कर जेल भेज दिया गया। खास बात​ की नीतीश कुमार इस साजिश में शामिल थे। लालू कभी सांप्रदायिक शक्तियों के सामने घुटने नहीं टेके।

वे यहीं पर नहीं रुके। उन्होंने नरेंद्र मोदी सरकार को निशाना बनाते हुए कहा कि पिछले 4 सालों के दौरान कितने बेरोजगारों को नौकरी मिली। जबकि, हर साल दो करोड़ नौकरी देने का वादा था। लेकिन पीएम ने कहा कि पकौड़ा बेचो, पकौड़ा बेचना भी एक रोजगार ही है। उन्होंने कहा कि यदि हर साल 2 करोड़ लोग पकौड़ा बनाएंगे तो पकौड़ा खाएगा कौन? तेजस्वी ने नीतीश के राज में भी नौकरी का यही हाल है। सबसे ज्यादा बिहार से ही युवाओं का पलायन हुआ है। यहां भी एक नौकरी नहीं मिली।

तेजस्वी ने वर्ण व्यवस्था पर कहा कि पहले गरीबों को कुएं से पानी लेने का अधिकार नहीं था। ना ही ऊंची जाति के लोगों के सामने बैठने का अधिकार था। अगर आरक्षण व्यवस्था नहीं बढ़ी तो फिर से वही समय आ जाएगा। उन्होंने कहा कि हम किसी के विरोध में नहीं हैं। लोगों को अधिकार मिले, इसीलिए इस यात्रा को हमने निकाला है। यदि हम बेईमान होते और बीजेपी के सामने घुटने टेक देते तो आज बिहार के मुख्यमंत्री हम होते। हम पर कोई केस नहीं होता।

उन्होंने कहा कि नीतीश जी की कोई विचारधारा नहीं है। वे कुर्सी कुमार हैं। वे कुर्सी के चक्कर में कुछ भी कर सकते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने भी नीतीश कुमार को जमकर फटकार लगाई है। सीबीआइ को भी फटकार लगाई है। उन्होंने कहा कि नीतीश जी चेला बन कर मोदी और भागवत की गोद में बैठ गए। बिहार में दिनदहाड़े अपराध बढ़ रहे हैं। बेखौफ अपराधी पुलिस का भी एनकाउंटर कर दे रहे हैं। लेकिन सीएम नीतीश कुमार को बिहार की कोई चिंता नहीं है।

इधर तेजस्वी ने ट्वीट के माध्यम से भी हमला बोला है। उन्होंने मुजफ्फरपुर शेल्टर होम कांड को लेकर कहा कि ‘सीबीआई का दुरुपयोग कर नीतीश कुमार सहित भाजपा-जदयू के संलिप्त मंत्रियों को मुजफ्फरपुर बलात्कार कांड में बेदाग़ बचाने की मोदी सरकार की कोशिश भारी पड़ी। जांच अधिकारी एके शर्मा के स्थानांतरण मामले में सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को अदालत की अवमानना का दोषी पाया है। चाचा अब चालाकी नहीं चलेगी।’ दरअसल गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने इसी मामले में सीबीआई समेत बिहार सरकार को कड़ी फटकार लगाई है। इसी को लेकर तेजस्वी ने गुरुवार को ट्वीट कर नीतीश सरकार को घेरा है।




AD